International

ओली पर फिर भड़के प्रचंड, पार्टी को लेकर सुनाया

Nepal PM KP Sharma Oli and Prachanda Dispute: नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल के बीच जारी सियासी गतिरोध एक फिर तेज हो गया है। प्रचंड ने पीएम ओली पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी में एकता बनाए रखने के नाम पर नेताओं के गलत इरादों और विचारों की अनदेखी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

Edited By Priyesh Mishra |

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

नेपाली पीएम ओली और प्रचंडनेपाली पीएम ओली और प्रचंड

हाइलाइट्स

  • नेपाल में जारी सियासी गतिरोध फिर बढ़ा, प्रचंज ने साधा ओली पर निशाना
  • प्रचंड ने कहा- पार्टी की एकता के नाम पर गलत इरादों और विचारों की अनदेखी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता
  • दोनों नेताओं में सहमति के आसार नहीं, प्रचंड अब भी ओली का मांग रहे इस्तीफा

काठमांडू


नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल के बीच जारी सियासी गतिरोध एक फिर तेज हो गया है। प्रचंड ने पीएम ओली पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी में एकता बनाए रखने के नाम पर नेताओं के गलत इरादों और विचारों की अनदेखी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। उन्होंने पार्टी में टूट को उकसाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की बात भी की है।


हमने जनता की मांग के कारण पार्टी विभाजित होने से रोका


काठमांडू में आयोजित 23 वें तुलसीलाल अमात्य स्मृति दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रचंड ने कहा कि पार्टी में चल रहे गलत रवैये को रोके जाने की आवश्यक्ता है। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी के नेतृत्व ने लोगों की इच्छा को स्पष्ट रूप से स्वीकार किया है कि पार्टी को विभाजित नहीं होना चाहिए। इसके लिए हमें सभी प्रकार के विचारों, तथ्यों और दृष्टिकोण को स्वीकार करने की जरुरत है।

पर्दे के पीछे जारी खेल पर प्रचंड का हमला


उन्होंने कहा कि पार्टी में एकता के नाम पर जारी किसी भी गलत विचारधारा को पर्दे के पीछे जारी नहीं रखना चाहिए। नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी विचारधारा की राजनीति करती है और हमारे पहले के नेताओं ने इसी के लिए अपना बलिदान भी दिया है। हमें आपसी एकता को बनाए रखना होगा।

पीएम केपी शर्मा ओली और प्रचंड में बढ़ी दरार, कम्‍युनिस्‍ट पार्टी में टूट या होंगे मध्‍यावधि चुनाव ?

संसद को भंग कर चुनाव करा सकते हैं ओली


चीन के बल पर सत्‍ता बचाने की कोशिशों में जुटे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अब संसद को भंग करने और मध्‍यावधि चुनाव कराने की तैयारी कर रहे हैं। नेपाली अखबार कांतिपुर की रिपोर्ट के मुताबिक केपी शर्मा ओली और उनके विरोधी पुष्‍प कमल दहल ‚प्रचंड‘ दोनों ही शह और मात के लिए अपनी-अपनी रणनीति बनाने में जुट गए हैं।

प्रचंड ने PM आवास पर बिना ओली के ही कर डाली स्टैंडिंग कमिटी की बैठक

ओली प्रचंड के बीच सुलह के आसार कम


ओली की तैयारी को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के दोनों ही धड़ों के बीच सहमति बनने के आसार कम होते जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक ओली दो विकल्‍पों पर विचार रहे हैं। पहला-पार्टी के बंटवारे पर अध्‍यादेश लाया जाए ताकि कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का चुनाव चिन्‍ह उनके पास ही रहे। दूसरा-संसद को भंग करके मध्‍यावधि चुनाव कराए जाएं। हालांकि यह दोनों ही रणनीति ओली के लिए आसान नहीं होने जा रही है।

ओली की कुर्सी बचाने के लिए चीन-पाक का नया पैंतरा!

ओली की कुर्सी बचाने के लिए चीन-पाक का नया पैंतरा!


देश-दुनिया और आपके शहर की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।


Web Title 

pushpa kamal dahal prachanda again targeted nepal pm kp sharma oli, says wrong ideology is not tolerated(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

Related Articles

Close