International

चीन ने US को धमकाया, बोला- आग से न खेलो

ताइवान पर चीन ने फिर अमेरिका को धमकाया, बोला- आग से न खेलो, खुद जल जाओगेताइवान को लेकर अमेरिका और चीन में तल्खियां लगातार बढ़ती जा रही है। 41 साल बाद अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के ताइवान पहुंचने पर चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए विश्वासघात करार दिया था। उधर ताइवान दौरे पर पहुंचे अमेरिकी स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार ने कोरोना वायरस को लेकर चीन की जमकर आलोचना की। उन्होंने ताइवान के दिवांगत पूर्व राष्ट्रपति ली तेंग हुई को श्रद्धांजलि भी दी।

चीन बोला- आग से खेल रहा है अमेरिका

NBT

अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के ताइवान पहुंचने और आपसी संबंधों को मजबूत करने के फैसले पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान ने कहा कि चीन के मूल हितों को प्रभावित करने को लेकर अमेरिका को किसी भ्रम में नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कड़े शब्दों का प्रयोग करते हुए कहा कि जो लोग आग से खेल रहे हैं वो खुद इसमें जल जाएंगे।

चीन ने ताइवान को भी दी सैन्य कार्रवाई की चेतावनी

NBT

वहीं, ताइवान को चेतावनी देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि वे विदेशियों की अधीनता स्वीकार नहीं करें और ना ही विदेशियों की मदद पर भरोसा करें। ताइवान चीन का अभिन्न अंग है और अगर उसने स्वतंत्र होने का ऐलान किया तो इसका सैन्य जवाब दिया जाएगा।

चीनी सेना के वरिष्ठ कर्नल ने भी ताइवान को धमकाया

NBT

कुछ दिनों पहले ही चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के वरिष्ठ कर्नल रेन गुओकियांग ने चेतावनी देते हुए कहा कि हमारे पास ताइवान पर सैन्य कार्रवाई करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। उन्होंने ट्रंप सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि अमेरिकी सेना को ताइवान के साथ युद्धाभ्यास के लिए भेजना चीन को चुनौती देना है।

अमेरिका से वन चाइना पॉलिसी मानने की अपील

NBT

चीनी कर्नल ने कहा कि अमेरिका के इस फैसले से दोनों देशों के संबंधों पर नकारात्मक असर पड़ सकता है। इससे न केवल ताइवान स्ट्रेट में शांति को खतरा होगा बल्कि यह पूरी तरह से गलत और अस्वीकार्य है। उन्होंने अमेरिकी सरकार से कहा कि वे अपनी गलती को तुरंत स्वीकारें और ताइवान के साथ किसी भी तरह के आधिकारिक और सैन्य संपर्क को रोकें। उन्होंने अमेरिका से वन चाइना पॉलिसी को मानने की भी अपील की।

चीन के पास ताइवान पर कब्जा करने का अधिकार

NBT

चीनी कर्नल ने चेतावनी देते हुए कहा कि हमारे पास ताइवान की स्वतंत्रता रोकने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति, पूर्ण आत्मविश्वास और पर्याप्त क्षमता है। हम पूरी तरह से राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करेंगे। इसके लिए ताइवान पर सैन्य कार्रवाई करने से भी हम पीछे नहीं हटेंगे।

क्यों है चीन और ताइवान में तनातनी

NBT

1949 में माओत्से तुंग के नेतृत्व में कम्युनिस्ट पार्टी ने चियांग काई शेक के नेतृत्व वाले कॉमिंगतांग सरकार का तख्तापलट कर दिया था। जिसके बाद चियांग काई शेक ने ताइवान द्वीप में जाकर अपनी सरकार का गठन किया। उस समय कम्यूनिस्ट पार्टी के पास मजबूत नौसेना नहीं थी। इसलिए उन्होंने समुद्र पार कर इस द्वीप पर अधिकार नहीं किया। तब से ताइवान खुद को रिपब्लिक ऑफ चाइना मानता है।

ताइवान को अपना हिस्सा मानता है चीन

NBT

चीन ताइवान को अपना अभिन्न अंग मानता है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी इसके लिए सेना के इस्तेमाल पर भी जोर देती आई है। ताइवान के पास अपनी खुद की सेना भी है। जिसे अमेरिका का समर्थन भी प्राप्त है। हालांकि ताइवान में जबसे डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी सत्ता में आई है तबसे चीन के साथ संबंध खराब हुए हैं।

Related Articles

Close