International

पुतिन के कोरोना वैक्सीन पर विवाद, रूसी शीर्ष अधिकारी का इस्तीफा

| नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 14 Aug 2020, 09: 02: 00 PM

Russia Covid-19 Vaccine: रूसी कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर वहां की स्वास्थ्य मंत्रालय में ही घमासान मचा हुआ है। इस वैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल से पहले रजिस्ट्रेशन को लेकर एक शीर्ष चिकित्सक ने रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय की नैतिकता परिषद को छोड़ दिया।

Russia Vaccine

रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन

हाइलाइट्स:

  • रूस में कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर उठे विरोध के सुर, स्वास्थ्य मंत्रालय के शीर्ष वैज्ञानिक ने दिया इस्तीफा
  • रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन रुकवाना चाहते थे प्रोफेसर, इंसानों के प्रति सुरक्षा की करना चाहते थे जांच
  • रूसी कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिका, जर्मनी और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी जताया संदेह

मास्को

रूसी कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर वहां के स्वास्थ्य मंत्रालय में ही घमासान मचा हुआ है। इस वैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल से पहले रजिस्ट्रेशन को लेकर एक शीर्ष चिकित्सक ने रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय की नैतिकता परिषद को छोड़ दिया। उन्होंने अपने इस्तीफे को लेकर कोई कारण नहीं दिया है। लेकिन, इस्तीफे के कुछ समय पहले ही दिए गए एक इंटरव्यू से अंदाजा लगाया जा रहा है कि वे सरकार के वैक्सीन रजिस्ट्रेशन की हड़बड़ाहट को लेकर नाराज थे।

रूसी वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन रोकना चाहते थे प्रोफेसर

मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट के अनुसार, प्रोफेसर अलेक्जेंडर चुचलिन नैतिकता परिषद को छोड़ने से पहले सुरक्षा के आधार पर वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन को रोकना चाहते थे। एक विज्ञान पत्रिका नौका आई झिज्न को दिए इंटरव्यू में चुचलिन ने किसी भी दवा या वैक्सीन को मंजूरी देने से पहले सुरक्षा सुनिश्चित करने के महत्व को रेखांकित किया था। चुचलिन ने साक्षात्कार में कहा था कि एक दवा या वैक्सीन के मामले में नैतिक समीक्षक होने के नाते वे सबसे पहले यह समझना चाहते हैं कि यह दवा इंसानों के लिए कितना सुरक्षित है।

कोरोना के खिलाफ 2 साल तक रक्षा करेगी रूसी वैक्सीन!

रूसी न्यूज एजेंसी तॉस के अनुसार, मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी के निदेशक और रूसी हेल्थकेयर मंत्रालय के अलेक्जेंडर गिंट्सबर्ग ने कहा कि इस वैक्सीन के प्रभावी रहने की अवधि एक साल नहीं, बल्कि दो साल होगी। इससे पहले रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी इस वैक्सीन के दो साल तक प्रभावी रहने का दावा किया था।

क्या है रूसी कोरोना वायरस वैक्सीन, जानिए कैसे करती है काम

रूस की पहली सैटेलाइट से मिला वैक्सीन को नाम

इस वैक्सीन का नाम रूस की पहली सैटेलाइट स्पूतनिक से मिला है। जिसे रूस ने 1957 में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी ने लॉन्च किया था। उस समय भी रूस और अमेरिका के बीच स्पेस रेस चरम पर थी। कोरोना वायरस वैक्सीन के विकास को लेकर अमेरिका और रूस के बीच प्रतिद्वंदिता चल रही थी। रूस के वेल्थ फंड के मुखिया किरिल दिमित्रीव ने वैक्सीन के विकास की प्रक्रिया को ‚स्पेस रेस‘ जैसा बताया था। उन्होंने US TV को बताया, ‚जब अमेरिका ने Sputnik (सोवियत यूनियन की बनाई दुनिया की पहली सैटलाइट) की आवाज सुनी तो वे हैरान रह गए, यही बात वैक्सीन के साथ है।



अमेरिका और जर्मनी ने रूसी वैक्सीन पर जताया संदेह

अमेरिका के स्वास्थ्य एवं मानव सेवा सचिव एलेक्स अजार ने कहा है कि कोविड-19 का पहला टीका बनाने की जगह कोरोना वायरस के खिलाफ एक प्रभावी और सुरक्षित टीका बनाना ज्यादा महत्वपूर्ण है। ताइवान की यात्रा पर आए अजार से एबीसी ने मंगलवार को पूछा कि रूस की इस घोषणा के बारे में वह क्या सोचते हैं कि वह कोरोना वायरस के टीके का पंजीकरण करने वाला पहला देश बन गया है। जर्मनी ने भी रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन की गुणवत्ता और सुरक्षा को लेकर संदेह जताया है। जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि यूरोपीय संघ में क्लिनिकल ट्रायल के बाद ही दवा को मंजूरी दी जाती है। हमारे यहां रोगी की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

Web Title : russia covid 19 vaccine russian health ministry top official resigns over untested covid vaccine

Hindi News from Navbharat Times, TIL Network

Related Articles

Close