International

US में बॉयकाट चाइना, न्यूयॉर्क में जबरदस्त विरोध

Edited By Priyesh Mishra |

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

अमेरिका में चीन के खिलाफ प्रदर्शनअमेरिका में चीन के खिलाफ प्रदर्शन

हाइलाइट्स

  • चीनी आक्रामकता के खिलाफ अमेरिका में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन, बॉयकाट चाइना के लगे नारे
  • विरोध प्रदर्शन में भारती अमेरिकियों के साथ, तिब्बती और ताइवानी लोग भी हुए शामिल
  • दो दिन पहले शिकागो में भी चीन के खिलाफ हुआ था विरोध प्रदर्शन

न्यूयॉर्क


चीन की आक्रामकता और विस्तारवादी नीतियों से तंग लोग अब दुनियाभर में सड़कों पर उतर रहे हैं। न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर पर भारतीय अमेरिकी, तिब्बती और ताइवानी नागरिकों ने चीन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान लोग बॉयकाट चाइना और स्टॉप चाइनीज एब्यूज जैसे पोस्टर भी लिए दिखे। दो दिन पहले शिकागो में भी चीन के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन हुए थे।


टाइम्स स्क्वॉयर पर जुटे लोग


ऐतिहासिक टाइम्स स्क्वॉयर पर बड़ी संख्या में भारतीय-अमेरिकी लोगों ने चीन के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए भारत माता की जय और अन्य देशभक्ति नारे लगाये। साथ ही, उन्होंने भारत के खिलाफ चीन की आक्रमकता को लेकर उसका (चीन का) आर्थिक बहिष्कार करने और उसे राजनयिक स्तर पर अलग-थलग करने की भी मांग की।

बॉयकाट चाइना से गूंजा टाइम्स स्क्वॉयर


न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी में रह रहे भारतीयों और भारतीय संघों के परिसंघ (एफआईए) के अधिकारियों ने बॉयकाट चाइना, भारत माता की जय और चीनी आक्रामकता को रोको जैसे नारे लगाए। प्रदर्शनकारियों ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के मद्देनजर चेहरे पर मास्क पहनकर प्रदर्शन किया। उनके हाथों में हम शहीद जवानों को सलाम करते हैं के पोस्टर थे।

अब रूस के व्लादिवोस्तोक शहर पर चीन का दावा, कहा-1860 से पहले हमारा था

तिब्बती और ताइवानी लोग भी हुए शामिल


प्रदर्शन में तिब्बती और ताइवानी समुदाय के सदस्य भी शामिल हुए। उन्होंने तिब्बत भारत के साथ खड़ा है, मानवाधिकारों, अल्पसंख्यक समुदायों के धर्मों, हांगकांग के लिए न्याय, चीन मानवता के खिलाफ अपराध रोके और बॉयकाट चाइना के पोस्टर ले रखे थे। समुदाय के नेताओं, प्रेम भंडारी और जगदीश सहवानी ने शुक्रवार को इस प्रदर्शन का आयोजन किया।

चीन को जोरदार झटका देगा जापान, रद्द कर सकता है शी जिनपिंग का दौरा

लोग बोले- चीन को देंगे करारा जवाब


जयपुर फुट यूएसए के अध्यक्ष भंडारी ने कहा कि आज का भारत 1962 के भारत से अलग है। हम चीनी आक्रामकता और इसकी अंतरराष्ट्रीय धौंस को बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम चीन के अहंकार का करारा जवाब देंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय समुदाय पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ एक हिसंक झड़प में 20 (भारतीय) जवानों के शहीद होने से बहुत व्यथित हैं।

Get latest America news headlines, American political news, sports news, all breaking news and live updates. Stay updated with us to get latest news in Hindi.

Related Articles

Close